प्राधिकरण के क्रिया-कलाप

आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के प्रावधानों के अंतर्गत राज्य प्राधिकरण, प्रदेश में आपदाओं के रोक-थाम, पूर्व-तैयारी, शमन के उपाय तथा आपदाओं के दौरान तत्पर राहत,बचाव एवं प्रतिवादन से सम्बंधित निम्नांकित कार्यों को संपन्न करता है:-

  • आपदाओं की पूर्व तैयारी, शमन, रोकथाम से सम्बंधित राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के निर्देशो के अनुपालन हेतु जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरणों तथा अन्य विभागों के साथ समन्वयन एवं दिशा निर्देश।
  • राज्य आपदा प्रबंधन नीति का निर्धारण तथा राज्य आपदा प्रबंधन योजना का अनुमोदन एवं क्रियान्वयन हेतु समन्वय एवं दिशा निर्देश ।
  • जिला आपदा प्रबंधन योजनाओं को तैयार करने में जिला प्राधिकरणों को दिशा-निर्देशन, समन्वयन एवं अनुमोदन ।
  • आपदाओं की रोकथाम एवं शमन हेतु राज्य की विकास योजनाओं एवं परियोजनाओं में आपदा प्रबंधन तत्वों के समावेश हेतु अन्य विभागों से सामंजस्य एवं समन्वयन ।
  • आपदा प्रबंधन में प्रदेश के विभिन्न हितधारकों की क्षमतावृद्धि ।
  • पूर्व तैयारी, आपदा न्यूनीकरण तथा राहत एवं बचाव हेतु जन-जागृति एवं सूचनाओं का प्रसारण ।
  • आपदाओं के दौरान राहत एवं बचाव कार्यों हेतु प्रदेश के विभिन्न विभागों, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण एवं अन्य संस्थाओं के साथ समन्वयन ।

अंतिम बार अपडेट किया:26 Mar, 2019

नया क्या है
  • 31-Dec-2019new-iconबाढ़ आपदा प्रबंधन पूर्व तैयारी हेतु जिला प्राधिकरण को सुझावऔर पढ़ें

आपातकालीन संपर्क

Wheather-Photo